नया घर

15 सितंबर, 2011

हिंदी-दिवस पर श्री पी.चिदम्बरम-माननीय गृह-मंत्री का अंग्रेजी मोह





’हिंदी-दिवस’के उपलक्ष्य पर,14 सितंबर,2011 को,विज्ञान-भवन,नई दिल्ली में-भारत सरकार के’ राजभाषा विभाग’ की ओर से एक भव्य-समारोह का आयोजन किया गया.इस कार्यक्रम में-महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल व माननीय  गृह-मंत्री श्री पी.चिदम्बरम जी ने संयुक्त रुप से’इन्दिरा गांधी राजभाषा’पुरस्कार व ’राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञान-विज्ञान मॊलिक पुस्तक लेखन’पुरस्कारों का वितरण किया.इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण डी.डी.न्यूज,डी.डी.भारती तथा आकाशवाणी दिल्ली पर 11-30 बजे से किया गया.
राजभाषा विभाग की सचिव श्रीमती वीणा उपाध्याय ने अपने विभाग की उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि  राजभाषा के प्रचार-प्रसार हेतु जहां वित्तीय-वर्ष 2010-11में विभाग का योजनागत बजट 5.50 करोड रुपये था उसे वित्तीय-वर्ष 2011-12 में बढाकर 20 करोड रुपये कर दिया गया हॆ.इसी प्रकार वित्तीय-वर्ष 2010-11 में जहां 54 कम्पयूटर प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन किया गया,वहीं पर 2011-12 में 125 प्रशिक्षण कार्यक्रमों के आयोजन का लक्ष्य रखा गया हॆ.इस अवसर पर हिंदी प्रयोक्ताओं के लिए विकसित सूचना प्रोद्यॊगिकी टूल्स का विवरण भी दिया गया.
माहमहिम प्रतिभा देवी पाटिल ने राजभाषा ’हिंदी’के महत्व पर बडे ही विस्तार से प्रकाश डाला व सभी से अनुरोध किया की सरकारी काम में अधिक से अधिक हिंदी का प्रयोग करें.इस कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण माननीय गृह-मंत्री श्री पी.चिदम्बरम जी का भाषण रहा.उन्होंने अपने भाषण की शुरूआत अवश्य हिंदी से की लेकिन जल्दी ही अंग्रेजी पर आ गये.अंग्रेजी भाषा के प्रति उनका यह मॊह था या कॊई अन्य मजबूरी-यह तो माननीय मंत्री महोदय ही जानें.भाषण के अंत तक पहुंचते-पहुंचते शायद उन्हें याद आ गया कि अरे!-यह तो ’हिंदी-दिवस’ हॆ.इसलिए उन्होंने अपने भाषण का अंत हिंदी में ही किया.इस कार्यक्रम की लाईव वेबकास्टिंग निम्नलिखित-वेबसाईडों पर उपलब्ध हॆ:
www.rajbhasha.gov.in
www.rajbhasha.nic.in
www.webcast.gov.in

1 टिप्पणी:

  1. मैंने तो पूर्णत: हिन्दी भाषी नीतीश पर लिखा और आपने चिदम्बरम पर। प्रतिभा जी स्वयं नकली मांग कर रही थीं।

    उत्तर देंहटाएं